वक़्त

एक पल का हिसाब, एक लम्हा एक साल।   बहुत ढूंढा इस वक़्त का मतलब, पर बुझी नहीं  हमारी तलब। पहले  लगा वक़्त को समझ पाए तो अच्छा होगा, फिर लगा थोड़ा वक़्त और  मिल जाए तो कैसा होगा। बस ये वक़्त बे वक़्त ऐसा  वक़्त दिखता है, कि वक़्त…